लहुलुहान अख़बार 

15-09-2019

लहुलुहान अख़बार 

शबनम शर्मा

इक दिन सुबह उठते ही 
इक लहुलुहान 
अख़बार मुझसे लिपट गया 
मैंने उसे ढांढस बंधाया 
और उसकी दास्ताँ
सुनने के लिए 
उसे कुर्सी पर बिठाया 

बोला सीना फाड़कर 
देख-देख! कितने शहीदों का 
खून मुझ पर लगा है 
ये ही नहीं रेल दुर्घटनाओं, 
बलात्कारों व कई 
हवाई दुर्घटनाओं के 
उलीचे हुए खून के 
छींटे भी पड़े हैं मुझ पर, 
ये एक दिन की नहीं 
रोज़ मर्रा की बात 
बन गई, थक गया हूँ
हार गया हूँ कुछ तो कर मेरे लिए,
वह चुपचाप अपना 
आँचल सँभाल बैठ गया

जब उसने देखा 
कि उसे देखकर मेरी 
आँखों से भी आँसू 
टपक रहे थे।

0 Comments

Leave a Comment