क्योंकि मैं सत्य हूँ

15-03-2020

क्योंकि मैं सत्य हूँ

आलोक कौशिक

मैं कल भी अकेला था 
आज भी अकेला हूँ 
और संघर्ष पथ पर 
हमेशा अकेला ही रहूँगा 


मैं किसी धर्म का नहीं 
मैं किसी दल का नहीं 
सम्मुख आने से मेरे 
भयभीत होते सभी 


जानते हैं सब मुझको 
परंतु स्वीकार करना चाहते नहीं 
मैं तो सबका हूँ 
किंतु कोई मेरा नहीं 


फिर भी मैं किसी से डरता नहीं 
ना कभी झुकता हूँ 
ना कभी टूटता हूँ 
याचना मैं करता नहीं 
संघर्षों से थकता नहीं 


झुक जाते हैं लोचन सबके 
जब मैं नैन मिलाता हूँ 
क्योंकि मैं सत्य हूँ 
केवल सत्य हूँ 


बादलों द्वारा ढक जाने से 
गति सूर्य की रुकती नहीं 
कितनी भी हो विपरीत परिस्थितियाँ 
परंतु मेरी पराजय कभी होती नहीं 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो