कुण्डलियाँ - डॉ. सुशील कुमार शर्मा - इतराना, देशप्रेम

01-01-2021

कुण्डलियाँ - डॉ. सुशील कुमार शर्मा - इतराना, देशप्रेम

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

1. इतराना
 
इतराते किस बात पर, सुनो घमंडी यार।
अच्छे अच्छे मिट गए, इतराना बेकार।
इतराना बेकार, चार दिन का ये जीवन।
सुंदर रहे न खाल, झुर्रियाँ लटकें तन मन।
कहता सत्य सुशील, फिरो मत तुम लहराते।
हो जाओगे शून्य, चले गर तुम इतराते।
 
2. देशप्रेम
 
माटी में तेरी मिलूँ, अंतिम इच्छा आज।
कोकिल कंठों में बसूँ, बन तेरी आवाज़।
बन तेरी आवाज़, बहूँ बन रेवा नीरा  
बन हिमगिरि का माथ, बनूँ सीमा रणवीरा।
करता नमन सुशील, पुण्य भारत परिपाटी।
अंतिम प्राण प्रयाण, मिलूँ बस तेरी माटी।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

गीत-नवगीत
कहानी
कविता
दोहे
कविता-मुक्तक
सामाजिक आलेख
बाल साहित्य लघुकथा
लघुकथा
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
सिनेमा और साहित्य
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में