कोशिश है

15-03-2021

परदे की ओट में
ख़ुद को छुपाने की कोशिश है,
थोड़ा सा दिखाना
क़यामत ढाने की कोशिश है।


अनजान तुम भी नहीं
अपनी मासूम गुस्ताख़ियों से,
'तुम्हे इल्म नहीं कोई'
बस ये बताने की कोशिश है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कविता - क्षणिका
नज़्म
खण्डकाव्य
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में