किसे मैं सुनाऊँ ये ग़म का फ़साना

01-12-2020

किसे मैं सुनाऊँ ये ग़म का फ़साना

निज़ाम-फतेहपुरी

ग़ज़ल- 122 122 122 122
अरकान- फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन
 
किसे मैं सुनाऊँ ये ग़म का फ़साना
सुनेगा तो रो देगा ज़ालिम ज़माना
 
सितम बिजलियों ने वो ढाए न पूछो
जला मेरे आगे मेरा आशियाना
 
बहुत कुछ बचाया बचाते-बचाते
मगर लुट गया फिर भी मेरा ठिकाना
 
न सोचा न समझा मोहब्बत को मेरी
जुदा हो गए वो बना कर बहाना
 
वफ़ा करके कुछ भी नहीं हमने पाया
न करते वफ़ा ग़म न पड़ता  उठाना
 
जिधर से मैं  गुज़रूँ यही लोग कहते
हटो आ रहा है वो देखो दिवाना
 
'निज़ाम' आख़री ये नसीहत है मेरी
हसीनों से दिल मत कभी तुम लगाना

– निज़ाम- फतेहपुरी

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
गीतिका
कविता-मुक्तक
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में