किसान गूँजता है, 
सत्ता के गलियारों में,
क़िस्सा होता है, 
इसका चौराहों में, बाज़ारों में।
रैलियों में लगते हैं, 
जिसके नाम के नारे,
तरसते हैं दो जून की रोटी को 
ये बेचारे।
किसानों की दुर्दशा सुना गलियाँ-गलियाँ,
नेता लूटते हैं, 
ख़ूब लोगों की तालियाँ।
देते हैं फिर ये नेता 
कई नये आश्वासन,
ताकि चलता रहे हमेशा, 
इनका शासन।
किसानों के लिए 
नई योजनाओं का सुना क़िस्सा,
बदल देते हैं, नेता 
चुनावों की दिशा व दशा।
अन्नदाता फिर सिर्फ़ बनता है, 
मज़ाक का पात्र,
क्योंकि हक़ीक़त नहीं, 
हैं ये सिर्फ योजनाएँ मात्र।
इस शोरगुल में फिर एक, 
किसान हो जाता है इतना नाउम्मीद,
जीवन की डोर ख़ुद ही तोड़, 
सो जाता है ख़ामोशी से लम्बी नींद।
चुनावी वादों की हेडलाइन के साथ 
हाशिये में छपती,
फिर किसी किसान की 
ख़ुदकुशी की ख़बर।
सत्ता के शोरगुल में शायद ही,
पड़ती हो उस ख़बर पर किसी की नज़र।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें


  BENCHMARKS  
Loading Time: Base Classes  0.2350
Controller Execution Time ( Entries / View )  0.4985
Total Execution Time  0.7375
  GET DATA  
No GET data exists
  MEMORY USAGE  
65,301,688 bytes
  POST DATA  
No POST data exists
  URI STRING  
entries/view/kisaan
  CLASS/METHOD  
entries/view
  DATABASE:  v0hwswa7c_skunj (Entries:$db)   QUERIES: 59 (0.3838 seconds)  (Show)
  HTTP HEADERS  (Show)
  SESSION DATA  (Show)
  CONFIG VARIABLES  (Show)