01-05-2019

खड़े जहाँ पर ठूँठ

रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

खड़े जहाँ पर ठूँठ
कभी वहाँ
पेड़ हुआ करते थे।
सूखी तपती
इस घाटी में कभी
झरने झरते थे।

छाया के 
बैरी थे लाखों
लम्पट ठेकेदार,
मिली-भगत सब 
लील गई थी
नदियाँ पानीदार।
अब है सूखी झील 
कभी यहाँ 
पनडुब्बा तिरते थे।

बदल गए हैं 
मौसम सारे
खा-खा करके मार
धूल-बवण्डर
सिर पर ढोकर 
हवा हुई बदकार 
सूखे कुएँ,
बावड़ी सूखी
जहाँ पानी भरते थे।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो