कविता मेरी नज़र में

01-04-2021

कविता मेरी नज़र में

अनीता श्रीवास्तव

झंझावात हुए जब अंतर्जगत में
सूखे पत्ते सी झर गई
प्यास को पी कर मर्यादा को
अमर कर गई
तोड़ कर मौन वाणी में
आहिस्ता उतर गई
बेनाम संबंध के सम्बोधनों में
देख दर्पण सा सँवर गई
दुनियादारी के बोझ तले
दबी . . . शायद मर गई
जी उठी और का दुःख देख कर
हद है मौत से मुकर गई
जो कर न सका आदमी दो हाथों से
कविता जज़्बातों से कर गई।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें