कवि हो तुम

01-01-2020

कवि हो तुम

आलोक कौशिक

ग़ौर से देखा उसने मुझे और कहा 
लगता है कवि हो तुम 
नश्तर सी चुभती हैं तुम्हारी बातें 
लेकिन सही हो तुम 


कहते हो कि सुकून है मुझे 
पर रुह लगती तुम्हारी प्यासी है 
तेरी मुस्कुराहटों में भी छिपी हुई 
एक गहरी उदासी है 


तुम्हारी ख़ामोशी में भी 
सुनाई देता है एक अनजाना शोर 
एक तलाश दिखती है तुम्हारी आँखों में 
आख़िर किसे ढूँढ़ती हैं ये चारों ओर 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो