कौन सा वक़्त

01-08-2021

न जाने कौन सा वक़्त है
जो वक़्त के साथ
सब कुछ ढलता जा रहा है।
न जाने कौन सा वक़्त है
जो वक़्त के साथ
सब कुछ बदलता जा रहा है।
न जाने कौन सा वक़्त है
जो वक़्त के साथ
सब कुछ ख़ामोश करता जा रहा है।
न जाने कौन सा वक़्त है
जो वक़्त के साथ
सब कुछ ठहरता जा रहा है।
न जाने कौन सा वक़्त है
जो वक़्त के साथ
जो सब कुछ छीनता जा रहा है।
न जाने कौन सा वक़्त है
जो वक़्त के साथ
सब कुछ नज़र अंदाज़ करता जा रहा है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में