कारगिल विजय

01-08-2020

कारगिल विजय

आलोक कौशिक

सन् निन्यानवे था 
थी वो माह जुलाई 
शत्रु से हमारी पुनः 
छिड़ी हुई थी लड़ाई 

 

मार रहे थे शत्रुओं को 
हमारे वीर महान् 
राष्ट्र की रक्षा हेतु 
दे रहे थे बलिदान 

 

दिन सोमवार था वो 
तिथि छब्बीस जुलाई 
कारगिल पर जब 
भारत ने जय पाई 

 

नमन उन वीरों को 
वो हैं भारत की शान 
भारत भूमि के लिए 
जो हुए थे बलिदान 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा
कविता
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में