कल के खेल

01-07-2020

कभी हम खेला करते थे
खिलौनों से, धूल-मिट्टी, पत्तों, डालों से
खुले मैदानो में।


बाबा बताते हैं
वो भी ऐसे ही खेला करते थे,
पर आज मेरा बाबू (बच्चा)
खेलता है
विद्युत उपकरणों से
घर के अंदर
कम्प्यूटर और मोबाइलों से।


कल इनके बाबू
किससे खेलेंगे
उपकरणों से, खिलौनों से
पत्तों, डालों से 
या?
शायद अतीत की कहानी
उन्हें तब याद आयेगी
जब समय की नाव
सागर पार कर जायेगी।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में