कहाँ लिखूँ

31-10-2014

कहाँ लिखूँ

बृजेश कुमार

कहाँ लिखूँ तेरा नाम दुनिया से छुपा के 
कुछ भी तो नहीं मेरे पास जो नुमाया ना हो 
अपनी काया के कण-कण में देखा 
ऐसा भी तो कुछ नहीं जिसमें तू समाया ना हो 
मेरी पलकों की परछाईयों में 
मेरे दिल की गहराईयों में 
मेरे अन्तर्मन और 
जीवन की तनहाइयों में 
कहाँ लिखूँ.............

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें