कड़क चाय की प्याली

01-12-2019

कड़क चाय की प्याली

ऋचा तिवारी

पौष माह की ठंडक हो
जब घनघोर कुहासा छाया हो
जब नाक हमारी ठंडी हो और
दाँतों की कटकटाहट संग
सर्द से होती सिहरन हो

तब मिलना तुम हमसे
उन सड़क की पैदल राहों पर
जहाँ, किनारे लगते ठेलों से
उबलती भाप छोड़ती
कोहरे से घुलती-मिलती
कुल्हड़ में सौंधी ख़ुशबू लिए
एक कड़क चाय की प्याली हो॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें