काँपती किरनें
पड़ीं जब ताल के जल में।
लहरों का
तन कोरा
पावन हुआ पल में।

बूढ़ा वट
यह देखकर
अनमाना-सा हो गया
जब साँझ डूबी
     चाँद था
       उतरा किनारे।
             टाल भरकर
                  थाल में
                       लाया सितारे।
     चाँद की
          पलकें झुकीं कि
                 एक सपना खो गया।

डालियों पर
       रात उतरी
            खामोश अम्बर।
                    शीतल हवा ने
                          जब छाप छोड़ी
                                 भाल पर।
पल में
संताप तन का
और मन का सो गया।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा
कविता
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
साहित्यिक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो