जेठ की दोपहर

डॉ. शैलजा सक्सेना

भरी दोपहरी
मन के पाँखी ने,
पँख समेटे 
चोंच गड़ाई सीने में
और बैठ गया।

पलकें मुँदती धीरे-धीरे
दाना-पानी
कुछ क्षण को
दूर कहीं पर
छूट गया।

बोली मीठी 
चिपकी तालू से
कहने-गाने से
उलसा मन
अब ऊब गया।

थकी-थकी
कैसी बेला है
पँख - हवा के 
सारे नाते हवा
हो गये।

भरी दोपहरी,
पेड़ तले, 
टूटा राही
नींद में कुछ पल
डूब गया॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कहानी
कविता-मुक्तक
लघुकथा
स्मृति लेख
साहित्यिक
पुस्तक समीक्षा
कविता - हाइकु
कथा साहित्य
विडियो
ऑडियो