जीवन की शाम

15-09-2021

जीवन की शाम

मंजु आनंद

ना जाने कब हो जाए इस जीवन की शाम,
भाग रहा है, कितना भागेगा,
कर ले पंथी तू थोड़ा विश्राम,
ना जाने कब हो जाए इस जीवन की शाम,
 
जीवन भर तू उलझा रहा,
राग-द्वेष, काया-माया के मोहजाल में,
किस बात का करता है तू अभिमान,
ना जाने कब हो जाए इस जीवन की शाम,
 
गठरी रुपए-पैसे की कब तक रखेगा बाँध,
उड़ जाएगा बन कर पंछी, छोड़ इक दिन अपना धाम,
ना जाने कब हो जाए इस जीवन की शाम,
 
कर्म ही तेरा सच्चा साथी, कर्म ही तेरी पहचान,
जीवन को तू सफल बना ले, कर कुछ अच्छे काम,
न जाने कब हो जाए इस जीवन की शाम...

1 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें