जीवन के ये प्यारे पल
आज नहीं तो फिर ये कल।
बह जाएँगे इन हाथों से
करते कल-कल छल-छल॥ 

जिन्हें छोड़ दें वे मुस्काएँ
दुख की धूप कभी न आए।
जो मिल जाएँ आगे पथ में
उनके लिए भी कुछ कर जाएँ॥ 

अपना जीवन लुटाते जाना
खोना-खोना, कुछ न पाना।
दर्द उठे फिर-फिर मुस्काना
आँसू आए गीत सुनाना॥ 

नन्हीं कलियाँ गले लगाकर
ख़ुशबू के नग़में बन जाना।
कोयल जागे तो जग जाना
कोयल सोए तो सो जाना॥
 
अपना मन तो बिल्कुल जोगी
जंगल और वीराना क्या।
भीड़ नगर की नहीं खींचती
महलों का मिल जाना क्या॥

फुटपाथों पर नींद थी आई
गद्दों पर हम रातों जागे।
माया भागी पीछे-पीछे
हम तो भागे आगे-आगे॥
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो