ईश्वर अल्लाह

15-05-2020

ईश्वर अल्लाह

राजनन्दन सिंह

हमने उनका नाम
ईश्वर अल्लाह रख दिया
मंदिर-मस्जिदें बनवा दीं
और मंदिर-मस्जिद पर 
हम झगड़ा करते हैं
लड़ते हैं
पक्षियों ने 
उनका कोई नाम नहीं रखा
उनके लिए कुछ नहीं बनवाया
वे हमारे ही बनाये
शिखर गुंबजों पर 
आकर बैठते हैं
न लड़ते हैं न झगड़ते हैं
सारे मिलकर 
एक साथ चहकते हैं

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो