इस बार की बारिश

15-07-2020

इस बार की बारिश

अनीता श्रीवास्तव

अलग एहसास दे कर जाएगी इस बार की बारिश
सुनो हर बार से होगी अलग इस बार की बारिश


किनारे पर खड़ी होगी नदी अपने ही धारों के
भिगो कर हँस रही होगी उसे इस बार की बारिश


फुहारों से निकल जाएँगे बच कर उड़ते आँचल भी  
न बूँदों को नचा ही पाएगी इस बार की बारिश


खिलेंगे सब तरफ़ जो फूल उनकी ख़ुशबुओं में भी
दिलों को झूमने देगी नहीं इस बार की बारिश


चलेगी नाव काग़ज़ की न अबकी बार आँगन में
बच्चों को रखेगी रोक कर इस बार की बारिश


बदली बरस तो लेगी मगर दिल पर रहेगा बोझ
बरस कर भी बरस न पाएगी इस बार की बारिश


शैतानियाँ नादानियाँ बन गईं हैं दुशवारियाँ सीं
तरेरे आँख आई है यहाँ इस बार की बारिश


भिगोना छोड़ न दे जल लगा रहता है खटका सा
मुझ गुमनाम शायर की नज़्म इस बार की बारिश

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें