इस बार की होली में

01-04-2021

इस बार की होली में

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

इस बार की होली
कुछ यूँ मनाते हैं।
किसी दुखियारे के घर
बैठ आते हैं।

है पलाश भी उदास
आसमान चुप है।
जलता दीपक पर
अँधेरा घोर घुप है।

कोरोना मुकरा है
उसे हम भगाते हैं।

रोज़गार छूट रहे
रँग सब काले से
भौंरे गीत भूले
अश्रु परनाले से।

ऊँघ रहीं सरकारें
चलो जगाते हैं।

हुरयारे घर बैठे
सड़कें वीरानी।
चौपटी व्यवस्था की
मीडिया बखानी।

आज फिर चुनाव में
मत डाल आते है।  

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
गीत-नवगीत
कविता
सामाजिक आलेख
दोहे
बाल साहित्य लघुकथा
लघुकथा
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
सिनेमा और साहित्य
कहानी
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में