इंतज़ार

21-02-2019

इंतज़ार

शेष अमित

झरते हरसिंगार ने,
रोका है पथ कभी,
जुगनू आँधेरे में,
रातरानी की महक ने,
धकेला है भँवर में?
गुलाब को पाया-
इंतज़ार में गुमसुम?
तो पथिक भूले नहीं तुम,
राह अब तक।

0 Comments

Leave a Comment