03-05-2012

हम कहीं भी रहें माँ की दुआ साथ रहती है

डॉ. विजय कुमार सुखवानी

हम कहीं भी रहें माँ की दुआ साथ रहती है
माँ कहीं भी रहे हमारी चिंता साथ रहती है

जब एक रोज़ मुकरर्र है मौत का फिर क्यूँ
सारी उम्र दहशत-ए-कज़ा साथ रहती है

धूप छाँव तो ज़िंदगी में आते जाते रहते हैं
आखिरी पल तक बस हवा साथ रहती है

अपने हों या पराये सब यहीं छूट जाते हैं
नेकी इंसां की मगर सदा साथ रहती है

इंसां अमीरी में रहे या रहे मुफ्लसी में
हर हाल में उसकी अना साथ रहती है

घर दफ्तर इज़्ज़त औ’ दौलत के मसअले
हरपल कोई न कोई चिंता साथ रहती है

एक रोज़ साथ छोड़ जायेंगी ये साँसें भी
कोई भी शय कब तक भला साथ रहती है

0 Comments

Leave a Comment