हम दौड़ते रहे

01-01-2017

हम दौड़ते रहे

महेश रौतेला

हम सत्य के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम झूठ के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम प्यार के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम जीवन के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम राहों के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिले, कुछ नहीं मिले
कुछ खो गये।
हम रिश्तों के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिले, कुछ नहीं मिले
कुछ खो गये।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कहानी
विडियो
ऑडियो