हुल के फूल

01-01-2020

हुल के फूल
घिरी चारदिवारी के अंदर
खिलते नहीं हैं
वह तो
तुम्हारे और मेरे हृदय में भी खिल सकता है
जब तुम्हारी
आँखों के सामने
लोगों पर अत्याचार होता है
तुम्हारे पत्नी और बेटी को
उठा कर ले जाते हैं
कुछ बुरा सोचकर. . . 
पहाड़ -पर्वत, नदी-नाला
और घर-द्वार से भी
तुम्हें बेदख़ल होना पड़े

 

तुम्हारी धन दौलत
लुट लेंगे
विचार और सोच पर भी
फ़ुल स्टोप लगायेंगे
तब
अपने आप
देह का ख़ून
गर्म हो जायेगा
नरम हथेली भी
कोठर मुट्ठी में बदल जायेगी
कंघी किए सर का बाल भी
खड़े हो जाएँगे
और मुँह से ज़ोर
आवाज़ निकल जायेगी ___
हुल, हुल, हुल
तब तुम्हारे चट्टानी हृदय में
हुल का फूल खिलेगा! 

0 Comments

Leave a Comment