होली पर कुण्डलियाँ

01-04-2021

होली पर कुण्डलियाँ

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

1.
फागुन के रंग में रँगे, धरा प्रकृति आकाश।
होली में सब मस्त हैं, टेसू संग पलाश।
टेसू संग पलाश, गंध महुआ मन भावन।
जीवन रंग विलास, खिला मन सुरभित पावन।
तन मन रँगा सुशील, प्रीत की पायल रुनझुन।
होली रंग बहार, लिए फिरता है फागुन।
2.
मुखड़ा मले अबीर में, राधा जू मुस्काय।
मोहन की दीपित छवि, देखत नहीं अघाय।
देखत नहीं अघाय, धरें भरके पिचकारी।
निरखत छवि जा श्याम, फिरे राधा बेचारी।
किसको रंग लगाय, कहे किससे यह दुखड़ा।
हर गोपी के संग, दिखे केशव का मुखड़ा।
3.
कोरोना ने कर दिया, सब कुछ मटियामेट।
रंग भंग विध्वंस सब, पड़े हैं लंबेलेट।
पड़े हैं लम्बे लेट, लॉक डाउन की बारी।
लेकर लम्बा लट्ठ, खड़े हैं वर्दीधारी।
बाँधे मास्क सुशीलट, ख़ूब आता है रोना।
लेकर रंग गुलाल, खड़ा बाहर कोरोना।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
गीत-नवगीत
कविता
सामाजिक आलेख
दोहे
बाल साहित्य लघुकथा
लघुकथा
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
सिनेमा और साहित्य
कहानी
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में