होली की आग

15-05-2019

होली की आग
वही रहती है 
जो चूल्हे की 
जो हवन कुंड की 
और निर्दोष 
जलती नारियों की देहाग्नि 
जो भभकती है 
आज समाज में
(अनवरत जल रही है)
होलिका की भाँति
हवि बनने को आतुर हैं
आज की अबलाएँ
चिंतन विलक्षण है?
पर सच है।
आग वही है 
जो आतंक से 
आती धूमाग्नि के सदृश विकराल;
आग वही जो 
बेज़ुबान की ज़ुबान खोलने पर 
आतुर है।
पर धूम रहित अग्नि है।
आज की आग 
बस आग है 
जो जलाती है 
केवल और केवल 
मानवता को 
उस असुर की तरह 
जो केवल मुख खोले 
निरीह आग का प्रदर्शन करता है।
और भस्म करता है
संपूर्ण आह! को

0 Comments

Leave a Comment