23-02-2019

क्यों बने हो जीव होकर
जीव के ही प्राणभक्षक
क्या नहीं यह जीव के जीवत्व के विपरीत है
स्वार्थ, ईर्ष्या, द्वेष इति
जो नाशपथ के चिह्न हैं
यह जानकर भी उधर जाना अधम और अनीति है

मिल न सकता चैन है
जीवत्व का प्रतिकार करके
प्राप्त होगा क्या विचारो
जीव का संहार करके
अमर कोई भी नहीं सुखभोग कितने दिन करोगे
साथ जायेगा नहीं कुछ, सृष्टि की यह रीति है

दाँव पर केवल नहीं
मानव तुम्हारे बालपन के
जल रही सम्पूर्ण मानवता
तले हिंसक हवन के
देखकर दुर्विध सिमटती जा रही निर्दोष दुनियाँ
आज सबका मन सशंकित और सब भयभीत हैं

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
नवगीत
ग़ज़ल
कविता
अनूदित कविता
नज़्म
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो