हे हंसवाहिनी माँ  

01-02-2021

हे हंसवाहिनी माँ  

आलोक कौशिक

हे हंसवाहिनी माँ 
हे वरदायिनी माँ 
 
अज्ञान तम से हूँ घिरा 
अवगुणों से हूँ मैं भरा 
सुमार्ग भी ना दिख रहा 
जीवन जटिल हो रहा 
 
ज्योति ज्ञान की जलाकर 
गुणों की गागर पिलाकर 
सत्पथ की दिशा दिखाकर 
जीवन सफल बना दो माँ 
 
हे हंसवाहिनी माँ 
हे वरदायिनी माँ 
 
तू ही संगीत तू ही भाषा 
तुम ही विद्या की परिभाषा 
तेरी शरण में जो भी आता 
बुद्धि की निधि वो है पाता 
 
विनती सुनो माँ भारती 
लेकर पूजा की आरती 
तुझे संतान पुकारती 
प्यार से निहार लो माँ 
 
हे हंसवाहिनी माँ 
हे वरदायिनी माँ 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में