मैंने एक दरोगा से पूछा - 
"भाई, जेल को 
हिन्दी में हवालात 
क्यूँ लिखते हैं?" 
तो 
जवाब में दरोगा जी बोले -
"क्योंकि, जेल में खाने को, 
सिर्फ़ 
'हवा' और 'लात' मिलते हैं!"

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
कहानी
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
सांस्कृतिक कथा
विडियो
ऑडियो