हथेली पर सूरज

13-03-2014

हथेली पर सूरज

रचना श्रीवास्तव

हर रोज
उगाती हूँ
एक उम्मीद अपनी हथेली पर
सूरज से
मांग कर
एक कतरा धूप
उसको पोसती हूँ
पलकों से
उसका पोर पोर सहलाती हूँ

 

मगर
न जाने क्यों
शाम ढलते ढलते
वो मुरझाने लगती है
रात फिर डराने लगती है मुझे
और मैं
उम्मीद की लाश
आपने आगोश में लिए
पलंग के एक कोने में सिमट जाती हूँ

0 Comments

Leave a Comment