हरे-पीले पपीते

15-09-2019

हरे-पीले पपीते

नरेंद्र श्रीवास्तव

हरे पपीते कच्चे-कच्चे।
पीले पके पपीते अच्छे॥

 

देख पपीता मन ललचाये।
पानी मुँह में झट आ जाये॥

 

पेड़-पपीता सुंदर दिखता।
खुली हुई छतरी-सा लगता॥

 

गुल्लक में ज्यूँ सिक्के होते।
बीज पपीते के त्यूँ होते॥

 

मीठा फल, रस खूब भरा है।
खाया मिलकर प्यार बढ़ा है॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता - हाइकु
बाल साहित्य कविता
कविता
किशोर साहित्य आलेख
बाल साहित्य आलेख
अपनी बात
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो