हर कोई जीता है

15-01-2021

हर कोई जीता है

राजनन्दन सिंह

जीने के सिवा
ज़िदगी का कोई उद्देश्य नहीं है
मनुष्य के हज़ार गुण हैं
हज़ार धर्म हैं
कोई स्वेच्छा
और हर्ष से जी जाता है
कोई विवशता 
और विषाद में जी पाता है
कोई शब्दों में जीता है 
तो कोई शब्दों के विलोम में
अमीर ग़रीब
सुख दुख
महल झोपड़ी 
मालिक नौकर
सुंदर कुरूप
राजा प्रजा
भक्त भगवान
मूर्ख विद्वान
गुरु शिष्य
नर्तक दर्शक
मगर हर कोई जीता है
सिर्फ़ जीता है
जीने के सिवा 
कोई कुछ नहीं करता

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में