हक़ीक़त

15-09-2017

हथेली पर खिंची
टूटी जीवन-रेखा से
क्या डरते हो

साप्ताहिक भविष्य-फल में की गई
अनिष्ट की भविष्यवाणियों से
क्या डरते हो

कुंडली में आ बैठे
शनि की साढ़े-साती से
क्या डरते हो

यदि डरना है तो

अपने 'मैं' से डरो
अपने बेलगाम शब्दों से डरो
अपने मन के कोढ़ से डरो
अपने भीतर हो गई
हर छोटी-सी मौत से डरो

क्योंकि

उँगलियों में
'नीलम' और 'मूनस्टोन' की
अँगूठियाँ पहन कर
तुम इनसे नहीं बच पाओगे

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
अनूदित कहानी
कहानी
कविता-मुक्तक
विडियो
ऑडियो