हमें मोहब्बत सिखा रहे हैं

01-02-2021

हमें मोहब्बत सिखा रहे हैं

आशीष तिवारी निर्मल

पानी में काग़ज़ का घर बना रहे हैं लोग 
सूरज को ही अब रोशनी दिखा रहे हैं लोग
 
हमीं से सीखकर मोहब्बत का ककहरा
आज हमें ही मोहब्बत सिखा रहे हैं लोग
 
है पता जबकि की टाँग की टूटेंगी हड्डियाँ
फिर भी हर बात पर टाँग अड़ा रहे हैं लोग
 
थी माँगी दुआएँ जिनके लिए मैंने कभी
बद्दुआओं से मुझको नवाज़े जा रहे हैं लोग
 
जग हँसाई की चिंता को कर दरकिनार
ख़ून के रिश्ते से ही सींग लड़ा रहे हैं लोग
 
सियासी शैतान हवाओं को बिना समझे ही
मज़हब के नाम पे ख़ून बहा रहे हैं लोग
 
क़लम से क़ायम, दिलों पे बादशाहत अपनी
पर जानबूझ के मेरा दिल दुखा रहे हैं लोग

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें