हम भी परहित करना सीखें

01-09-2020

हम भी परहित करना सीखें

त्रिलोक सिंह ठकुरेला

सूरज अपनी नव-किरणों से 
बिखरा देता जग में लाली। 
बूँदों के  मोती बिखराकर 
बादल फैलाता  हरियाली॥  
 
धरती के उपकार असीमित 
सबको दाना पानी देती।
अपने आँचल के आश्रय में 
सबके सारे दुःख हर लेती॥
 
उपवन सदा सुगंध लुटाकर 
सबकी साँसें सुरभित करता।
खग-कुल मिलकर गीत सुनाता 
सबके मन में ख़ुशियाँ  भरता॥ 
 
हम भी परहित करना सीखें,
मिलकर  सब पर नेह लुटायें। 
औरों के दुःख दर्द मिटाकर 
इस धरती को स्वर्ग बनायें॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता
बाल साहित्य कविता
किशोर साहित्य कहानी
कविता - हाइकु
दोहे
कविता-मुक्तक
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में