हार नहीं माननी है

01-08-2020

हार नहीं माननी है

मनोहर कुमार सिंह

देखा है मैंने किरणों को
आईने से टकराकर
अपनी राह बदलते
चलना नहीं छोड़तीं हैं
हार नहीं मानतीं हैं


देखा है मैंने इंसानों को
ठोकरें खा कर गिरते
हिम्मत हारते हार मानते
चलना तो दूर की बात
उठना भी मुश्किल होता है


जब आईने से टकराकर,
किरणें चलना नहीं छोड़तीं।
तो फिर हम इंसान होकर क्यों,
ठोकर खा कर हार मान लेते हैं?
क्यों हम सँभलना छोड़ देते हैं?


हम भी किरणों से सीख लेते हैं
कैसा भी हो राह हमें चलना है
परिस्थितियों से नहीं डरना है
आए कैसा भी वक़्त ज़िंदगी में
हमें डट कर सामना करना हैं।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें