ज्ञान जो अमृत है

15-09-2021

ज्ञान जो अमृत है

राजनन्दन सिंह

ज्ञान जो अमृत है
जिसे स्वर्ण कलश में नहीं 
तो कम से कम 
गंगाजल की शीशी में 
तो होना ही चाहिए 
ऐसा मुझे लगता है
 
मगर ज्ञान की भीड़ में 
निरर्थक स्पैम बना 
गंदे पॅाली बैग की तैरती 
गुटलियों से भरी
गंदी नाली की तरह 
सोशल मिडिया के गोदाम में 
ठसाठस भरा अटका पड़ा है
जिसे कोई नहीं  पढ़ता
अपने डिवाइस से
हर कोई मिटा देता है
 
वही ज्ञान
जो सार्थक है
कहाँ मिलेगा
कौन बतायेगा
राशनकार्ड 
और डिग्रियों की थैली लेकर
धक्के खाने से भी 
स्रोत का पता नहीं चलता 
जो यह बता दे 
वह कौन सी विद्या है
जो चैनल के सामान्य पत्रकार को
चैनल का मालिक बना देती है
या देखते ही देखते
किसी बनिये की दुकान से
शेयर बाज़ार में
ऊँची से ऊँची 
छलाँग लगवा देती है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
दोहे
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में