गुड़ गोबर

हलीम   ’आईना’

जब तक
देश का 
प्रत्येक नागरिक
’व्यक्तिवाद’ के
गोबर को त्याग कर
’समाजवाद’ के
गुड़ को नहीं खायेगा
आजादी का
उज्ज्वल भविष्य
गुड़ गोबर
होता ही जायेगा।

0 Comments

Leave a Comment