गुलमोहर

23-01-2019

गुलमोहर

अंजना वर्मा

नीले गगन में गीत प्यार का गा रहे,
गुलमोहर छा रहे।

 

डूबकर खत लिखे, लाल रोशनाई से
कूक रही कोयलिया बेकल अमराई से।
मंजरियाँ लिए पेड़, शीश हैं झुला रहे।

 

हवा चली हरफ-हरफ सड़कों पर बिखर गये
केसरिया लाल रंग धरती पर निखर गये।
संदेशा प्यार का दूर तक लुटा रहे।

 

ख़ुशबू हवाओं में , फैला ख़ुमार है,
हर तरफ़ बह रहा प्यार ही प्यार है
मौसम बहार का यूँ ही बना रहे। 
 

0 Comments

Leave a Comment