गिरगिट

01-05-2021

अपनी कविता “क़तरा क़तरा ख़ून हमारा, प्यारे वतन तुम्हारा है; सुना है दुश्मन ने सीमा पर पुनः हमें ललकारा है।“ को कवि सम्मेलन में चिर-परिचित जोशीले अंदाज़ में पढ़ने के बाद जब वे घर पहुँचे तो उनके बेटे अतुल ने बताया कि वह फ़ौज में भर्ती होना चाहता है।

वे अपने बेटे से तनिक रोष भरे स्वर में बोले, “फ़ौज में जाकर क्या करेगा? वर्दी पहनने का ही शौक़ है तो पुलिस में भर्ती होने की सोच। अपने मामा के बेटे को देख। पाँच साल की नौकरी में कितना कुछ कर लिया उसने।”

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

आप-बीती
सांस्कृतिक कथा
कविता - हाइकु
लघुकथा
स्मृति लेख
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में