घृणा होती है

01-04-2021

घृणा होती है

अवनीश कुमार

घृणा होती है
जब स्याह अंधकार में
किसी झुरमुट के पीछे से
चीख़ती हैं बच्चियाँ।
 
घृणा होती है
जब कुछ दिन 
मोमबत्तियाँ जलाने के बाद
सब बीता हुआ भूल जाते हैं।
 
घृणा तब और होती है,
जब कोई दूसरी बच्ची भी
इसी तरह शिकार होती है
आदमज़ात कुत्तों का।
 
घृणा तब और भी तीव्रतर होती
जब जनता की सेवा में नियुक्त
मुँहफटा प्रतिनिधि बयान देता
कि मामला संजीदा नहीं है।
 
घृणा होती है 
जब शिकार हुई बच्चियों के साथ
पुलिस भी खेलती है
जघन्य और क्रूर खेल।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में