गणतंत्र

01-03-2019

इतिहास राजतंत्र का
परिवेश गणतंत्र का
बदलाव है परिवेश में 
परिवेश ही आरम्भ है।

परिवेश राष्ट्रवाद का
आवेश है विकास का
कुरीतियों के नाश का
अवसाद किस बात का?

प्रसारित कुरीतियाँ
अवतरित है नीतियाँ 
नीतियों से आस है 
आस का आवास है।

निर्धनता का नाश हो 
अभिजात्य का विनाश हो
विषमता का प्रवास हो
समानता का वास हो।

एकजुटता के रंग में
तिरंगा हो संग में 
बन्धुत्व की बयार हो  
ख़ुशियाँ अपार हों।

5 Comments

  • 16 Jun, 2019 12:09 AM

    Bahut lajabab lekhani kavi ji

  • 17 Apr, 2019 04:24 PM

    Nice piece of writing

  • 24 Mar, 2019 01:37 PM

    bhaiya g meri jigyasa h ki main pp ki ek kabita rajnit pe padhu

  • 4 Mar, 2019 09:18 AM

    Nyc lines .. शब्द का चुनाव काफी अच्छा है.. ऐसे ही लिखते रहिये

  • 4 Mar, 2019 05:58 AM

    Nice 1

Leave a Comment


A PHP Error was encountered

Severity: Core Warning

Message: PHP Startup: Unable to load dynamic library '/usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll' - /usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll: cannot open shared object file: No such file or directory

Filename: Unknown

Line Number: 0

Backtrace: