एक पत्र ईश्वर के नाम

15-02-2020

एक पत्र ईश्वर के नाम

राजीव डोगरा

मेरे प्रिय ईश्वर 
मैं तुम्हें जानता नहीं, 
मैंने तुम्हें कभी देखा भी नहीं है।
मगर फिर भी 
तुम मेरी भावनाओं में,
मेरी आत्मा रहते हो। 
जीवन मेरे में 
अनेक उतार-चढ़ाव आए,
मैं हँसा भी बहुत रोया भी बहुत
मगर तुम्हें न जानते हुए भी
तुम्हारी अनुभूति मुझे 
हर पल, हर जगह होती रही।
लोगों ने मेरे साथ 
अच्छा भी किया और बुरा भी
हँसाया भी बहुत और 
रुलाया तो कई गुणा ज़्यादा ही था।
मगर फिर भी 
जब भी अकेला हुआ।
मुझे तेरी मुस्कुराहट ही दिखाई दी 
किसी खुले आसमान में चमकती।

0 Comments

Leave a Comment