एक जांबाज़ की कथा

15-02-2021

एक जांबाज़ की कथा

सुभाष चन्द्र लखेड़ा

 द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान जब जर्मन सैनिकों को साइबेरिया के किसी इलाक़े में रूसी सैनिकों ने चारों तरफ़ से घेर लिया तो जर्मन कमांडरों ने अपने सैनिकों को बचाने के लिए हेलिकॉप्टरों का उपयोग किया। ख़ैर, जब एक ऐसा हेलीकॉप्टर एक स्थान पर उतरा तो पायलट ने सैनिकों को बताया कि यह आख़िरी उड़ान है क्योंकि रूसी सैनिक अब नज़दीक पहुँचने वाले हैं। उस जगह पैंतीस जर्मन सैनिक थे जबकि उस हेलीकॉप्टर में मुश्किल से तीस सैनिक घुस पाए। पायलट ने हेलीकॉप्टर से कुर्सियाँ आदि सामान हटा दिया ताकि कुछ और सैनिकों को अन्दर ठूँसा जा सके। सारी कोशिशों के बाद हेलीकॉप्टर के अन्दर चौंतीस सैनिक पहुँच पाए। नीचे सिर्फ़ एक सैनिक बचा था जिसके दोनों घुटने ज़ख़्मी थे। वह हेलीकॉप्टर उड़ान भरने वाला था कि उसके अंदर से एक युवा सैनिक नीचे कूदा और उसने उस ज़ख़्मी सैनिक को सहारा देकर हेलीकॉप्टर के अन्दर पहुँचाया। फिर उसने उस ज़ख़्मी सैनिक से कहा, "मैं तो अभी अविवाहित हूँ लेकिन आपका जाना ज़रूरी है। मैं जानता हूँ आपकी पत्नी और आपके बच्चे आपका
इंतज़ार कर रहे होंगे।"

पायलट ने इंजन स्टार्ट किया और कुछ ही देर में वह हेलीकॉप्टर आसमान में था। पायलट ने उस युवा सैनिक के सम्मान में हेलीकॉप्टर की "डाइव" लगाई। अन्दर मौजूद सभी सैनिकों ने उसे सैल्यूट किया। दुश्मनों के इलाक़े में छूटे उस जांबाज़ युवा सैनिक का क्या हुआ होगा? यह अनुमान लगाना मुश्किल नहीं।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सांस्कृतिक कथा
लघुकथा
स्मृति लेख
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में