एक अच्छा दिन

01-11-2019

एक अच्छा दिन

डॉ. महेश आलोक

कैसा होना चाहिये अच्छा दिन
कि सब कुछ अच्छा हो
एक दिन

 

उमस भरा तो क़तई नहीं
चिपचिपाहट वाली त्वचा से पूरा कमरा
तनाव से भर उठता है

 

दुख को दूर रखने का कोई नुस्खा
ईजाद हो जाए एक दिन

 

एक दिन जब कोई दुर्घटना 
न हो किसी सड़क पर
कोई स्त्री गुज़र जाये सड़क से 
लता मंगेश्कर का कोई पुराना गीत
गुनगुनाते हुए
कश्मीर में गुलाब पूरी 
निर्भयता से खिलें एक दिन

 

एक प्रेम कविता जैसा दिन
खुल रहा हो सूरज की आत्मा में
तमाम ग़लतफ़हमियाँ दूर हो जाएँ
एक दिन

 

एक अच्छा दिन ऐसा हो कि
कोई फूल न तोड़ा जाए किसी पेड़ से
किसी ईश्वर पर चढ़ाने के लिये

 

कि कोई चींटी न आए किसी जूते के नीचे

 

चन्द्रमा अपना जन्म दिन 
मनाए सूरज के घर
एक अच्छा दिन ऐसा हो कि 
असंभव भी संभव हो
एक दिन

0 Comments

Leave a Comment