सूखे से तरसी आँखों ने
माँगी दुआ वर्षा की
पानी बरसा और... 
बरसता ही चला गया
सब कुछ बहा गया
कुछ यूँ कबूल होती है
दुआ ग़रीबों की

0 Comments

Leave a Comment