दीमक लगे रिश्ते 

15-03-2021

दीमक लगे रिश्ते 

राजेश ’ललित’

हाथ लगाते 
चौखट टूटी
दरवाज़े खिसके
बाँबी टूटी
सब कुछ मिट्टी हो गया
 
हरे पेड़ के पत्ते
सोख कर ऊर्जा
सह न सके 
हवा की चुभन
झड़ गये पत्ते
पतझड़ के आते
टूटे सब रिश्ते नाते
ठूँठ रह गया 
बाग़ के बीच
निहारता हरियाली

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें