धूल भरी परत

वीणा विज 'उदित'

चाँदी के रुपहले तार सी
बिखरी यादों के दरवाजे
आहिस्ता सी दस्तक से खुले
परत दर परत खुलते चले गए

 

सामने थीं अनगिनत दीवारें
कुछ कही कुछ अनकही बातें
अजीब लीपियाँ थीं खुदी हुईं
बर्फ़ानी ठण्डक लिए जमी हुई

 

दीवारें दर दीवारें लम्बे गलियारे
यादों का बोझ उठाए लम्बे खम्बे
धुँधली आकृतियाँ थी छत में
धूल भरी परत में छिपे थे चेहरे

 

यादों की दीवारों में दरारें पड़ी थीं
दरारों में सदियाँ सोई पड़ी थीं
भूली दास्तानें अब कहाँ याद थीं
यादों की कड़ियाँ भी टूटी पड़ी थीं

 

ठहर जाती है कश्मोकशे ज़िंदगी
जब यादें दिल पर देती हैं दस्तक
सुझाई नहीं देती कोई इबादत
हटाने से हटती नहीं धूल भरी परत।

0 Comments

Leave a Comment