कोरोना की तरह

01-08-2021

कोरोना की तरह

राजनन्दन सिंह

कोरोना की तरह ही अदृश्य 
मगर इससे भी ख़तरनाक
कई और वायरस 
पहले से मौजूद हैं संसार में 
इनकी तो कोई टेस्ट किट भी नहीं 
शोधे गये आज तक 
कोरोना की तरह
इनके भी सिर्फ़ लक्षण ही 
आभास होते हैं 
अन्याय
झूठ
झाँसा 
दमन 
शोषण
ये सब फैलते हैं देखा-देखी
पर ये मानव के प्राण नहीं लेते 
बस उन्हें तोड़ देते हैं 
उम्र भर के लिए
 
हलाँकि पीड़ित जन
विवशता का मास्क पहनते हैं 
पाउच वाली अल्कोहल युक्त 
रोष और मौन  आक्रोश से
सैनिटाइज़ भी होते रहते हैं 
मगर समस्या यह है कि वायरस 
प्रताड़ित से प्रताड़ित में नहीं 
प्रताड़क से प्रताड़कों में फैलता है। 
अफ़सोस कि कोरोना की भाँति 
इस मार से निपटने का
भविष्य में भी कोई टीका नहीं
विश्व सरकारों ने अब तक 
ऐसा कुछ किया नहीं
सोचा नहीं

2 टिप्पणियाँ

  • आदरणीया डाॅ पद्मावती जी, रचना को पढ़ने एवं रचना पर आपकी टिप्पणी के लिए सादर आभार। आपकी टिप्पणी से रचना के कथन को और भी बल मिला।

  • 29 Jul, 2021 08:09 PM

    सोचेगी भी नहीं । अन्याय झाँसा झूठ दमन शोषण तक तक रहेंगे जब तक पृथ्वी रहेगी । अनादि काल से है और अनन्त काल तक इनका अस्तित्व रहेगा । प्रभावी शब्दावली! बधाई!

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
दोहे
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में